spot_img
spot_img
Homeउत्तराखण्डसुशीला तिवारी अस्पताल में पिछले सात महिनों में 633 मौते

सुशीला तिवारी अस्पताल में पिछले सात महिनों में 633 मौते

-

हल्द्वानी: स्वास्थ्य व्यवस्था में हमेशा से बदनाम रहने वाला सुशीला तिवारी अस्पताल एक बार फिर सुर्खियों में है।

आरटीआई से मिली जानकारी के मुताबिक सुशीला तिवारी अस्पताल में पिछले 7 महीनों के भीतर 633 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हुई है।

इनमें 239 कोरोना पॉजिटिव मरीज भी शामिल हैं। बताया जा रहा है कि सुशीला तिवारी अस्पताल में रोजाना तीन मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो रही है।

वहीं, आरटीआई कार्यकर्ता हेमंत गोनिया का कहना है कि सुशीला तिवारी अस्पताल में स्वास्थ्य व्यवस्था पर लगातार सवाल खड़े होते रहे हैं।

अस्पताल की व्यवस्थाओं को लेकर लोग कई बार आंदोलन भी कर चुके हैं। उसके बावजूद भी अस्पताल की व्यवस्था ठीक नहीं हो पा रही है।

रोजाना तीन मरीजों की मौत हो रही है जो एक गंभीर विषय है।शासन से बजट जारी होने के बाद भी व्यवस्था सुधारने के लिए अस्पताल प्रशासन द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है।

ऐसे में सुशीला तिवारी अस्पताल में लोग उम्मीद लेकर इलाज के लिए आते हैं, लेकिन रोज तीन मरीजों की हो रही मौत के चलते लोग अब सुशीला तिवारी अस्पताल में आने से कतराते हैं।

LATEST POSTS

कोरोनेशन अस्पताल के हार्ट यूनिट में आयुष्मान योजना के तहत दिल का मुफ्त इलाज शुरू

देहरादून: कोरोनेशन अस्पताल के हार्ट यूनिट में आयुष्मान योजना के तहत दिल का मुफ्त इलाज शुरू हो गया है। आयुष्मान सोसायटी की ओर से प्रक्रिया...

स्वतंत्रता सेनानियों के परिवारजनों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की मुलाकात, पैर छुकर लिया आशीर्वाद

देहरादून: आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आंध्रप्रदेश के भीमावरम में स्वतंत्रता सेनानी अल्लुरी सीताराम राजू की 125वीं जयंती समारोह में शामिल हुए। इसके बाद पीएम ने...

हरीश रावत बोले अपने जिंदा रहते हुए गैरसैंण के मुद्दें को मरने नहीं देंगे, धामी सरकार पर बोला हमला

देहरादून: विधानसभा का बजट सत्र ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण में नहीं कराए जाने को लेकर सत्र के दौरान भी विरोधियों द्वारा प्रदर्शन देखने को मिला था...

चुनावी फायदा लेने के लिए भाजपा ने ही उदयपुर के वीभत्स हत्याकांड को दिया अंजाम: करन माहरा

देहरादून: उदयपुर हत्याकांड के बाद से पुरे देश में हडकंप मचा हुआ है I मामले की तुरंत कार्यवाही के बावजूद भी लोग अभी भी ...

Follow us

1,200FansLike
1,033FollowersFollow
340SubscribersSubscribe