spot_img
spot_img
Homeउत्तराखण्डधारचूला मुनश्यारी आपदा प्रभावितो तो को, न ठौर मिला, न ठिकाना

धारचूला मुनश्यारी आपदा प्रभावितो तो को, न ठौर मिला, न ठिकाना

-

सीएम ने दिया था आश्वासन , ठंड से पहले मिल जाएगा आशियाना

देहरादून:  मुनस्यारी व धारचूला विकास खंड के आपदा प्रभावितो को न ठौर मिला न ठिकाना इस ठंड में जाये तो जाएं कहाँ? कड़ाके की ठंड होने पर भी न छत मिली है और न ही कोई वैकल्पिक व्यवस्था। सरकार कितनी संवेदन शील है अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है!

सिस्टम से नाराज जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने राज्य के मुख्य सचिव को ईमेल से पत्र भेजा। कहा कि वे पुत्र वियोग से उभरे नहीं है, इस कारण इन प्रभावितो की आवाज भी नहीं बन पा रहे है।

जिला पंचायत सदस्य ने बताया कि आपदाकाल में प्रदेश के सीएम त्रिवेंन्द्र सिंह रावत ने यह आश्वासन दिया था कि. आपदा प्रभावितो को ठंड शुरु होने से पहले कम से कम अस्थाई ठौर ठिकाना मिल जायेगा।

लेकिन आज तक प्रभावितों के लिए कोई व्यबस्था नही हो पाई है, इन दोनो क्षेत्र में इतनी ठंड हो रही है कि नल का पानी जम कर बर्फ बन रहा है। ऐसे समय में आपदा प्रभावित टैंट, सरकारी भवन व क्षतिग्रस्त भवनो में ठंड से कांप रहे है। बच्चो व बुर्जूगो को निमोनिया जैसी घातक बीमारी हो रही है।

मर्तोलिया ने कहा कि सरकार को दीपावली तक इनकी समुचित व्यवस्था करने का अल्टीमेटम दिया गया था,लेकिन आठ नवम्बर को उनके पुत्र की दर्दनाक मौत हो जाने के कारण वे इनकी आवाज भी नहीं ऊठा पा रहे है। मर्तोलिया ने कहा कि सरकार की आदत हो गई है, जब तक जनता आवाज बुलंद नहीं करती है, तब तक वह सोयी रहती है। उन्होंने आश्चर्य जताया कि इस तरह की असंवेदनशील सरकार भी सुशासन दिवस मनाती है।

जिपं सदस्य मर्तोलिया ने क्षेत्र के आपदा प्रभावितो को क्षमा मांगते हुए कहा कि वे मजबूर है। कहा कि इस बार की आपदा केदारनाथ त्रासदी से कम नहीं थी, उसके बाद भी आपदा प्रभावितो को छत तक नसीब नहीं हुई है। मर्तोलिया ने कहा कि इस साल की आपदा से क्षतिग्रस्त मोटर मार्ग, पैदल मार्ग,पुलिया, पेयजल योजनाओ, सिचांई नहर के अलावा आपदा से खतरे में आ चूके घरो की सुरक्षा के लिए चैकडाम निर्माण व पुर्नानिर्माण के लिए बजट भी अभी तक तीन माह बीत जाने के बाद भी नहीं मिला है। आज भी आपदा से पैदा हुई समस्या बजट के अभाव में जस के तस है। उन्होंने कहा कि सरकार अपना कर्तव्य नहीं निभाती है तो फिर हमें न चाहते हुए  सड़को पर उतरना पडेगा।

LATEST POSTS

चारधाम यात्रा: साढ़े पच्चीस लाख के निकट पहुंची यात्रियों की संख्या

देहरादून: चारधाम यात्रा में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ा है 3 जुलाई रविवार शाम तक तक 25 लाख से अधिक तीर्थयात्री उत्तराखंड चारधाम...

भैंस चराने गए बच्चे को मगरमच्छ ने बनाया शिकार, बच्चे को मगरमच्छ के पेट से बाहर निकालने की मांग

देहरादून: देवहा नदी किनारे भैंस चराने गए बच्चे को मगरमच्छ ने बेरहमी से अपना शिकार बना लिया। मगरमच्छ बच्चे को पानी में खींच ले गया...

मानसून ने दी दस्तक, प्रदेश में अलर्ट जारी

देहरादून: राज्य में मानसून की दस्तक के साथ ही झमाझम बारिश का दौर भी शुरू हो गया है। प्रदेश में अगले चार दिन भारी बारिश...

लोन ऐप पर संपर्क करना युवती को पड़ा भारी

देहरादून: लोन एप पर संपर्क करना युवती को भारी पड़ गया। पीड़िता ने लोन भी नहीं लिया, इसके बावजूद आरोपियों ने उसकी अश्लील फोटो...

Follow us

1,200FansLike
1,033FollowersFollow
340SubscribersSubscribe