spot_img
spot_img
Homeउत्तराखण्डहरदा बोले- भाजपा की पैदावार कथित स्टिंग मास्टर

हरदा बोले- भाजपा की पैदावार कथित स्टिंग मास्टर

-

स्टिंग को लेकर उत्तराखण्ड में गर्माई राजनीति

देहरादून:  सूबे में भ्रष्टाचार के आरोप-प्रत्यारोप को लेकर सियासत गरमाई हुई है। बीते 27 अक्टूबर को नैनीताल हाईकोर्ट ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच सीबीआई को सौंपी थी। हाईकोर्ट ने सीबीआई को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ केस दर्ज कर करप्शन के आरोपों की जांच करने के आदेश दिए। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने स्टे लगा दिया। इस पर सीएम त्रिवेंद्र ने स्टिंगबाज को लेकर हरीश रावत पर निशाना साधा था। वहीं, हरदा ने भी पलटवार कर जवाब दिया है।उन्होंने निशाना साधते हुए कहा कि उत्तराखंड में बीजेपी ही कथित स्टिंग मास्टर को लाई थी।

दरअसल, बीजेपी आरोप लगा रही है कि किसी के साथ मिलकर कांग्रेस, सरकार को गिराने की साजिश कर रही है। मामले में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने तंज कसते हुए स्टिंग को लेकर पूर्व सीएम हरीश रावत पर निशाना साधा था। सीएम त्रिवेंद्र ने कहा कि जब हरीश रावत का स्टिंग हुआ था, तब यह शख्स ब्लैकमेलर और स्टिंगबाज था। आज क्या हरीश रावत की उससे दोस्ती हो गई है। सीएम के इस बयान के बाद पूर्व सीएम हरीश रावत ने बीजेपी पर पलटवार किया है।

पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस महासचिव हरीश रावत का कहना है कि बीजेपी कह रही है कि उस विशेषज्ञ, जिसके बारे में कहा जा रहा है कि कांग्रेस उससे मिलकर सरकार गिराने की साजिश रच रही है। उस विशेषज्ञ के संबंधों की तलाश करें तो उसके सारे संबंधी, रिश्तेदार और नातेदार बीजेपी के अंदर मौजूद मिलेंगे। इसके अलावा बीजेपी कथित स्टिंग मास्टर को उत्तराखंड लाई थी।उन्होंने कहा कि रमेश पोखरियाल के मुख्यमंत्रित्व काल में यही विशेषज्ञ हुआ करता था। इसी विशेषज्ञ ने हरीश रावत सरकार गिराने में भूमिका अदा की थी। उस समय बीजेपी का केंद्रीय और राज्य नेतृत्व इसी विशेषज्ञ की वंदना करते थे। त्रिवेंद्र सरकार के स्टिंग के पीछे भी यही विशेषज्ञ है।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि उन्हें घेरने के लिए पिछले साढ़े तीन साल से तमाम तरह के षड़यंत्र रचे जा रहे हैं। उनका यह बयान सीबीआई जांच पर सुप्रीम कोर्ट की ओर से लगी रोक के बाद आया। लेकिन पूर्व सीएम हरीश रावत का कहना है कि सीएम त्रिवेंद्र रावत पर लगे आरोप गंभीर हैं, हाईकोर्ट ने कुछ तथ्य सम्बद्ध और जांच लायक माना है।गौर हो कि बीते 27 अक्टूबर को उत्तराखंड हाईकोर्ट ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच सीबीआई को सौंपी थी। हाईकोर्ट ने सीबीआई को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ केस दर्ज कर करप्शन के आरोपों की जांच करने का आदेश दिया।नैनीताल हाईकोर्ट ने यह आदेश एक पत्रकार के खिलाफ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की छवि बिगाड़ने के मामले में दर्ज थ्प्त् को रद्द करने को लेकर दिया। पत्रकार के खिलाफ देहरादून के एक थाने में दर्ज एफआईआर को रद्द करने के आदेश देते हुए न्यायमूर्ति रविंद्र मैठाणी की एकल पीठ ने यह भी कहा कि इस मामले के सभी दस्तावेज अदालत में जमा कराए जाएं। हालांकि, अब इस आदेश पर उच्चतम न्यायालय ने रोक लगा दी है।

LATEST POSTS

राज्य की पुलिस को बनाया जायेगा स्मार्ट पुलिस सरकार इस ओर अग्रसर: मुख्यमंत्री धामी

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को रेस कोर्स स्थित पुलिस लाईन में आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग करते हुए प्रशासनिक भवन, क्वार्टर गार्द एवं...

रक्षक प्लस योजना के अन्तर्गत पीएनबी ने सौंपा मृतक पुलिस कर्मी की पत्नी को 50 लाख रूपये का चैक, डीजीपी रहे मौजूद

देहरादून: पंजाब नेशनल बैंक देहरादून जोन द्वारा रक्षक प्लस योजना के अन्तर्गत सड़क दुर्घटना में जान गंवाने वाले पुलिस कर्मी ओ.पी. विजय चौहान...

राज्य में जल्द होगी ई-एफआईआर की सुविधा, घर बैठे दर्ज करा सकेंगे रिपोर्ट

देहरादून: राज्य में जल्द ही ई-एफआईआर की सुविधा लागू की जायेगी। इसमें आम जन ई-एफआईआर पोर्टल के जरिये फस्ट इन्फोर्मेशन रिपोर्ट दर्ज करा सकेंगेI...

डीजीपी अशोक कुमार की अध्यक्षता में संपन्न हुई, अन्तर्राज्यीय व अन्तरइकाई समन्वय की 17 वीं बैठक, कांवड़ यात्रा को लेकर हुआ विमर्श

देहरादून: सूबे के पुलिस महानिदेशक, अशोक कुमार की अध्यक्षता में अन्तर्राज्यीय व अन्तरइकाई समन्वय की 17 वीं बैठक सोमवार को पुलिस मुख्यालय स्थित सभागार...

Follow us

1,200FansLike
1,033FollowersFollow
340SubscribersSubscribe