भारत की आपत्ति के बावजूद नेपाल ने नए नक्शे को दी मंजूरी, संघीय संसद का लोगो बदला

 

[pdf-embedder url=”https://newstodayz.com/wp-content/uploads/2020/05/pdf-2.pdf”]

भारत की आपत्ति के बावजूद नेपाल ने नए नक्शे को मंजूरी देने के साथ ही संघीय संसद का लोगो भी बदल दिया है। नए लोगो में पुराने नक्शे की जगह नए नक्शे को स्थान दिया गया है। इधर, नेपाल की ओली सरकार बुधवार को सदन में निसान सील को सही करने के लिए संविधान में संशोधन विधायक पेश करेगी।नेपाल सरकार ने 22 मई को भारतीय क्षेत्र कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को अपना क्षेत्र बताते हुए नया नक्शा जारी किया था। उसी नए नक्शे के अनुसार सांसदों और प्रतीक चिन्ह का लोगो संशोधित किया गया है।
ओली सरकार की ओर से संविधान संशोधन प्रस्ताव को स्पीकर अग्नि प्रसाद सपकोटा ने सदन में रखने की मंजूरी दे दी है। संविधान संशोधन विधेयक पर आम सहमति के लिए बुधवार को प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने सर्वदलीय बैठक बुलाई।उधर, सीमांत क्षेत्र में बसे दोनों ही देशों के लोग चाहते हैं कि आपसी सहमति से यह मामला सुलझ जाए क्योंकि भारत और नेपाल के बीच रोटी और बेटी का रिश्ता है, ऐसे में दोनों ही तरफ के लोग चाहते हैं कि विवाद किसी भी देश के हित में नहीं है।

सार
बुधवार को संविधान संशोधन की तैयारी

विस्तार
भारत की आपत्ति के बावजूद नेपाल ने नए नक्शे को मंजूरी देने के साथ ही संघीय संसद का लोगो भी बदल दिया है। नए लोगो में पुराने नक्शे की जगह नए नक्शे को स्थान दिया गया है। इधर, नेपाल की ओली सरकार बुधवार को सदन में निसान सील को सही करने के लिए संविधान में संशोधन विधायक पेश करेगी।

नेपाल सरकार ने 22 मई को भारतीय क्षेत्र कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को अपना क्षेत्र बताते हुए नया नक्शा जारी किया था। उसी नए नक्शे के अनुसार सांसदों और प्रतीक चिन्ह का लोगो संशोधित किया गया है।

सीमांत के लोग चाहते हैं शांति से सुलझे मामला

ओली सरकार की ओर से संविधान संशोधन प्रस्ताव को स्पीकर अग्नि प्रसाद सपकोटा ने सदन में रखने की मंजूरी दे दी है। संविधान संशोधन विधेयक पर आम सहमति के लिए बुधवार को प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने सर्वदलीय बैठक बुलाई।उधर, सीमांत क्षेत्र में बसे दोनों ही देशों के लोग चाहते हैं कि आपसी सहमति से यह मामला सुलझ जाए क्योंकि भारत और नेपाल के बीच रोटी और बेटी का रिश्ता है, ऐसे में दोनों ही तरफ के लोग चाहते हैं कि विवाद किसी भी देश के हित में नहीं है।

आगे पढ़ें

सीमांत के लोग चाहते हैं शांति से सुलझे मामला

सोशल ग्रुप्स में समाचार प्राप्त करने के लिए निम्न समूहों को ज्वाइन करे.