spot_img
spot_img
Homeउत्तराखण्डकोरोना को देखते हुए कार्तिक पूर्णिमा स्नान हरिद्वार प्रशासन ने किया स्थगित

कोरोना को देखते हुए कार्तिक पूर्णिमा स्नान हरिद्वार प्रशासन ने किया स्थगित

-

हरिद्वार:   30 नवम्बर को कार्तिक पूर्णिमा का स्नान पर्व है। इस स्नान पर्व के दौरान पूर्व वर्षो में देश के विभिन्न भागों यथा दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश आदि राज्यों से लाखों की सख्ंया में श्रद्धालुगणों ंका हरिद्धार के विभिन्न गंगा घाटों में गंगा स्नान हेतु आवागमन होता हैं। वर्तमान में विभिन्न राज्यों में कोविड-19 के संक्रमण में काफी वृद्धि होे रही है। जनपद में कोविड-19 के संक्रमण की वृद्धि को रोकने तथा जन सुरक्षा एंव स्वास्थ्य के दृष्टि से भारी जन समुदाय को एक स्थान पर एकत्रित होने से रोका जाना आवश्यक प्रतीत हो रहा है।

उक्त को दृष्टिगत रखते हुये कोविड-19 एंव भारत सरकार द्धारा जारी गाइडलाईन्स, दिशा निर्देशांे के अनुरूप हरिद्धार में 30.11.2020 को कार्तिक पूर्णिमा का स्नान पर्व स्थगित किया जाता है। यदि कोई व्यक्ति उक्त आदेश का उल्लंघन करते हुये पाया जाता है तो सम्बन्धित के विरूद्ध महामारी अधिनियम 1897 व आपदा प्रबन्धन अधिनियम 2005 के सुसंगत प्राविधानों के अन्तर्गत कार्यवाही सुनिश्चित की जायगी। यह जानकारी  सी0 रविशंकर, जिलाधिकारी हरिद्धार ने दी है।

LATEST POSTS

मौसम विभाग ने 4 जुलाई तक राज्य के अधिकांश जिलों में बारिश का ऑरेंज व यलो अलर्ट किया जारी

देहरादून: मानसून की घोषणा होने के साथ ही उत्तराखंड में बारिश के सिलसिले में भी तेजी आ गई है। गुरुवार को राज्य के अनेक हिस्सों में...

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने दिल्ली के डिप्टी सीएम पर ठोका मान-हानि का दावा

देहरादून: असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के खिलाफ आपराधिक मानहानि का केस दायर किया है। पिछले...

डॉक्टर्स डे स्पेशल: जन्म से लेकर अंत तक होता है डॉक्टर का महत्व

देहरादून: आज पुरे देशभर में डॉक्टर्स डे मनाया जा रहा है I हमारे देश में भगवान को सबसे ऊपर दर्जा दिया जाता है लेकिन डॉक्टर्स...

कोरोना के नए वैरिएंट की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग का अलर्ट जारी

देहरादून: देश के कई राज्यों में ओमिक्रॉन के नए वैरिएंट बी-4 और बी-6 के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इसे देखते हुए नए वैरिएंट...

Follow us

1,200FansLike
1,033FollowersFollow
340SubscribersSubscribe