spot_img
spot_img
Homeउत्तराखण्डस्मार्ट सिटी के काम में तालमेल की कमी

स्मार्ट सिटी के काम में तालमेल की कमी

-

दून स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत शहरभर में खुदी हुई हैं सड़कें

देहरादून:  राजधानी में चल रहे स्मार्ट सिटी के काम से आम जनता ही नहीं बल्कि क्षेत्र के जनप्रतिनिधि भी परेशान हो गये हैं। सड़कों की बदहाली और जनता की परेशानी के लिए स्मार्ट सिटी परियोजना और लोक निर्माण विभाग के बीच आपसी समन्वय की कमी मानी जा रही है जिसका खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है।

ऐसा ही हाल इन दिनों सुभाष रोड, क्रॉस रोड और न्यू रोड का है। यहां पर सड़क खुदनी शुरू होती है तो लोगों का बेहद मुश्किल समय शुरू हो जाता है। हालांकि स्मार्ट सिटी परियोजना के जो काम आज दुखदायी साबित हो रहे हैं, आने वाले कुछ वर्षों में इसके अच्छे परिणाम दिखाई देंगे।

वार्ड 21 एमकेपी के पार्षद रोहन चंदेल का कहना है कि स्मार्ट सिटी के काम के चलते जनता को परेशानी हो रही है। स्मार्ट सिटी का काम शुरू हुए लगभग एक वर्ष हो चुका है।

सुभाष रोड पर ऐसा देखने में आ रहा है कि पीडब्ल्यूडी सड़क बना रहा है तो पीछे से स्मार्ट सिटी के काम के लिए फिर से सड़क को खोद दिया जा रहा है। इस तरह से दोनों विभागों में समन्वय की कमी देखी जा रही है।

क्योंकि यदि पीडब्ल्यूडी विभाग सड़क बना रहा है तो उससे पहले स्मार्ट सिटी परियोजना को भी अवगत कराया जाता है ताकि वहां कोई काम छूटा हुआ है तो उसको समय से पूरा कर लिया जाए।

लेकिन सुभाष रोड में चल रहे काम को देख कर ऐसा प्रतीत नहीं हो रहा है कि विभाग आपसी तालमेल के साथ काम कर रहे हैं। इसी तरह से क्रॉस रोड और न्यू रोड का भी हाल हैं। सुभाष रोड को बनाने का काम शुरू हुआ तो परियोजना के काम के तहत एमकेपी चैक को फिर से खोद दिया गया है।

पार्षद ने बताया कि पीडब्ल्यूडी का कहना है कि विभाग द्वारा एक बार रोड बना दी जाती है तो स्मार्ट सिटी परियोजना के अधिकारियों द्वारा रोड को फिर से खुदवा दिया जाता है।

विभाग के पास इतना बजट नहीं है कि बारकृबार रोड बनवा दी जाए। उन्होंने कहा कि इन विभागों और अधिकारियों की तालमेल की कमी के कारण दिक्कत जनता को झेलनी पड़ रही है। पीडब्ल्यूडी आगे से सड़क बना रहा तो स्मार्ट सिटी वाले इसे खोद दे रहे हैं।

इस तरह से सड़क बन ही नहीं पाएगी और जनता को परेशानी उठानी पड़ेगी। पीडब्ल्यूडी द्वारा रोड में पैच लगा कर काम के लिए छोड़ा जा रहा है तो उस समय काम नहीं हो रहा है लेकिन पूरी रोड बनाई जा रही है तो खोदने के लिए दूसरा विभाग आ जाता है। इसी तरह से सीवर की सबसे बड़ी समस्या है और इस समस्या का पहले समाधान किया जाना चाहिए।

LATEST POSTS

सुप्रीम कोर्ट ने नुपुर शर्मा को कहा अहंकारी और अडियल, देश के लिए बताया खतरा, दिल्ली पुलिस को भी लगाई फटकार

देहरादून: नुपुर शर्मा द्वारा पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ दिए गये विवादित टिप्पणी के बाद से देशभर में हंगामा हो गया था I जिसके बाद सुप्रीम...

सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध, शुरुआती दौर में दी जाएगी चेतावनी उसके बाद लगाया जाएगा जुर्माना

देहरादून: आज एक जुलाई से रोजमर्रा के दिनचर्या में इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक का काफी सामान प्रतिबंधित रहेगा। प्लाटिक के इस्तमाल से पर्यावरण को हो...

मुख्य सचिव ने रिक्तियों के अधियाचन को लेकर समस्त विभागों को दिए अहंम निर्देश

देहरादून: मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने गुरुवार को सचिवालय में विभागों द्वारा आयोग को भेजी जाने वाली रिक्तियों के अधियाचन के सम्बन्ध में...

सीएम धामी ने किया ‘हमारो पहाड़’ धारावाहिक के टाइटल सॉग का लोकार्पण

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरूवार को मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में सरकार के 100 दिन पूर्ण होने के अवसर पर ‘ सर्वश्रेष्ठ बने...

Follow us

1,200FansLike
1,033FollowersFollow
340SubscribersSubscribe