Homeउत्तराखण्डमातृभाषा गढ़वाली में पठन-पाठन से बढ़ेगी आगे: नरेंद्र सिंह नेगी

मातृभाषा गढ़वाली में पठन-पाठन से बढ़ेगी आगे: नरेंद्र सिंह नेगी

-

देहरादून : राजधानी में मंगलवार को विनसर प्रकाशन के रजत जयंती वर्ष के अवसर पर मातृभाषा गढ़वाली लेखकों की एक गोष्ठी आयोजित हुई। गोष्ठी में गढवाली में प्रकाशित प्राथमिक कक्षाओं के पाठ्यक्रम की पुस्तकों धगुलि , हंसुली , छुबकी , पैजबी और झुमकी के लेखकों तथा इन पुस्तकों में चित्रांकन करने वाले चित्रकारों ने प्रतिभाग किया। इस गोष्ठी में पाठ्यक्रम को तैयार करने वाले लेखकों और चित्रकारों को विनसर प्रकाशन द्वारा सम्मान राशि प्रदान की गयी। वहीं गोष्ठी का संचालन गणेश खुगशाल गणी ने किया। इसी दौरान लोकगायक नरेंद्र सिंह नेगी ने हिंदी एवं अंग्रेजी में प्रकाशित उत्तराखंड ईयर बुक जारी की गई I

इसी दौरान उन्होंने कहा कि मातृभाषा गढ़वाली में पठन-पाठन से आगे बढ़ेगी। बच्चों को अपनी भाषा में पठन सामग्री उपलब्ध होगी तो वे अपनी भाषा के महत्वपूर्ण पक्षों को भी जान सकेंगे। इसके लिए गढ़वाली भाषा बोलने वाले समाज को आगे आना होगा। भाषा के काम सरकार के भरोसे नहीं हो सकते इसके लिए समाज को आगे आना होगा। कहा कि वर्तमान समय में निरंतर लिखे जाने की आवश्यकता है। लिखे जा रहे साहित्य का मानकीकरण आने वाले समय मे विद्वान करते रहेंगे अभी तो निरंतर कार्य किये जाने की आवश्यकता है।

गोष्ठी के अध्यक्ष इतिहासकार डॉ योगेश धस्माना ने कहा कि अधीनस्थ चयन सेवा आयोग में स्थानीय भाषाओं को स्थान देने से जहाँ परीक्षार्थी अपनी भाषा को पढ़ेंगे वहीं भाषा रोजगार से भी जुड़ जाएगी। उन्होंने कहा कि जब भाषा रोजगार से जुड़ेगी तो उसकी उपयोगिता बढ़ जाती है और भाषा में आवश्यकतानुसार प्राण प्रतिष्ठा भी हो जाती है।

वहीं गोष्ठी में वरिष्ठ पत्रकार दिनेश शास्त्री सेमवाल ने कहा कि भाषाएँ चुनाव जीतने का माध्यम नहीं हैं I उत्तराखंड में भाषाओं को लेकर संजीदगी से कार्य किये जाने की आवश्यकता है तभी भाषाएं दीर्घजीवी होंगी। कहा कि अपनी भाषाओं को बचाने की पहल अपने घर से करने की आवश्यकता है तभी भाषा जिंदा रह सकती है। गढवाली साहित्यिकार गिरीश सुन्द्रियाल ने कहा कि मातृभाषा गढवाली का प्राथमिक कक्षाओं का पाठ्यक्रम बहुत ही बेहतरीन है लेकिन दुर्भाग्य से इसे अभी तक पूरे क्षेत्र में शुरू नहीं किया जा सका है। दूसरी तरफ गोष्ठी में विचार व्यक्त करते हुए डॉ जगदम्बा प्रसाद कोटनाला ने कहा कि भाषा को समृद्ध किये जाने के दृष्टि से लेखकों द्वारा निरंतर लेखन किया जाना चाहिए।

गढवाली कवियित्री बीना बेंजवाल ने इस अवसर पर कहा कि प्राथमिक कक्षाओं के लिए तैयार किया गया गढवाली भाषा का पाठ्यक्रम एनसीईआरटी और एससीईआरटी के मानकों पर खरी हैं और पुस्तकों की पाठ्य सामग्री बहुत ही उत्तम है।

LATEST POSTS

रामकृष्ण भट्ट हो सकते है कर्णप्रयाग सीट से बसपा के प्रत्याशी

कर्णप्रयाग: रामकृष्ण भट्ट कर्णप्रयाग विधानसभा सीट से बसपा के प्रत्याशी हो सकते हैंI कर्णप्रयाग के प्रमुख कारोबारी रामकृष्ण भट्ट पिछले कई समय से बसपा के...

भारत का संविधान दुनिया के लिखित संविधानों में सबसे बड़ा संविधान: मुख्य सचिव

देहरादून: मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने बुधवार को सचिवालय में गणतंत्र दिवस के अवसर पर ध्वजारोहण कर सचिवालय के सभी अधिकारियों कर्मचारियों को...

प्रदेश की हेट्रिक गर्ल वंदना कटारिया होंगी पद्मश्री से सम्मानित

देहरादून :अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी वंदना कटारिया को अर्जुन अवार्ड के बाद अब भारत सरकार ने मंगलवार को वंदना को पद्मश्री से सम्मानित करने की घोषणा...

जिन्होंने कभी चारधाम के बारे में नहीं सोचा, आज वे दे रहे ‘चार धाम-चार काम’ का नारा: प्रल्हाद जोशी

देहरादून : केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा के प्रदेश चुनाव प्रभारी प्रल्हाद जोशी ने कांग्रेस पर निशाना साधा I मंगलवार को मीडिया से बातचीत के दौरान...

Follow us

1,200FansLike
1,033FollowersFollow
340SubscribersSubscribe