Homeधर्म-संस्कृतिकांवड़ यात्रा के लिए हरिद्वार से दिल्ली तक ग्रीन कॉरिडोर पर नई...

कांवड़ यात्रा के लिए हरिद्वार से दिल्ली तक ग्रीन कॉरिडोर पर नई योजना तैयार

-

देहरादून: इस बार डाक कांवड़ के लिए हरिद्वार से दिल्ली तक ग्रीन कॉरिडोर बनाया जा रहा है। इस योजना के तहत हाईवे में एक साइड से डाक कांवड़ गुरजेगी तो वहीं दूसरी साइड पर सामान्य यातायात चलता रहेगा। जबकि, इससे पहले डाक कांवड़ के दौरान हाइवे पर यातायात बंद कर दिया जाता था।

उत्तराखंड और यूपी पुलिस ने संयुक्त रूप से इस नई व्यवस्था को लागू करने की तैयारी कर ली है। डाक कांवड़ के दौरान हाईवे पर पूरी तरह से डाक कांवड़ियों का कब्जा हो जाता था। ऐसे में सामान्य यातायात पूरी तरह से ठप पड़ जाता था। इस व्यवस्था के तहत कांवड़ियों के लिए पहले ही मार्ग को खाली करा दिया जाएगा। केवल एक ओर कांवड़िए ही दिखाई देंगे।

डीआईजी-एसएसपी डॉ. योगेंद्र सिंह रावत ने इस योजना के बारे में बताते हुए कहा कि हरिद्वार से इस दफा डाक कांवड़ हाईवे पर एक साइड से रवाना होगाी। दूसरी साइड पर जिले का सामान्य यातायात संचालित होगा। यह व्यवस्था दिल्ली तक की जा रही है।

डीआईजी ने बताया कि यूपी पुलिस ने भी इस पर अपनी सहमति दे दी है। वे भी हाईवे पर एक तरफ कांवड़ यात्रा का संचालन करेंगे और दूसरी तरफ सामान्य यातायात चलता रहेगा। डीआईजी की मानें तो यह व्यव्स्था पहली बार लागू की जा रही है, क्येांकि हाईवे अब पूरी तरह से तैयार है।

LATEST POSTS

जम्मू-कश्मीर में आठ घंटे में हुए दो विस्फोट

देहरादून: जम्मू-कश्मीर के उधमपुर शहर में एक बस स्टैंड पर खड़े एक वाहन में गुरुवार सुबह एक विस्फोट हुआ। हादसे में किसी के हताहत होने...

4-P मॉडल का सबसे बड़ा उदाहरण हैं सूरत: पीएम मोदी

देहरादून: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दो दिवसीय दौरे पर गुजरात के सूरत पहुंच गए हैं। यहां पहुंचने के बाद उन्होंने एक रोड शो में भाग...

सुप्रीम कोर्ट ने विवाहित व अविवाहित महिलाओं को दिया गर्भपात का अधिकार

देहरादून: सुप्रीम कोर्ट ने आज गुरुवार को देश की सभी महिलाओं को गर्भपात का अधिकार दिया हैं। यह अधिकार शीर्ष कोर्ट ने मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट...

ग्रामीण डाक सेवकों ने विभिन्न मांगों को लेकर जीपीओ में किया धरना प्रदर्शन

देहरादून: ग्रामीण डाक सेवकों ने विभिन्न मांगों को लेकर जीपीओ में एक दिवसीय धरना दिया। डाक सेवकों ने मांगो का निराकरण नहीं होने पर राष्ट्रीय...

Follow us

1,200FansLike
1,033FollowersFollow
340SubscribersSubscribe