पेट्रोल.डीजल के मूल्यों में बृद्धि पर, उत्तराखंड परिवहन महासंघ ने लिखा प्रधानमंत्री को पत्र: पेट्रोल.डीजल के मूल्यों को कम करने की मांग

0
42

ऋषिकेश:  कोरोना संक्रमण के कारण डूब चुके परिवहन व्यवसाय को लेकर उत्तराखंड परिवहन महासंघ ने प्रधानमंत्री को पत्र प्रेषित किया है। तहसीलदार ऋषिकेश के माध्यम से प्रधानमंत्री को भेजे गए इस पत्र में उत्तराखंड परिवहन महासंघ ने पीएम से डीजल पेट्रोल के मूल्यों को कम करने की मांग की है। इसके अलावा कई अन्य मांगों को भी महासंघ ने पत्र में उल्लेखित किया है।

उत्तराखंड परिवहन महासंघ ने,  पेट्रोल डीजल मूल्यों में लगातार हो रही वृद्धि को रोकने और कोरोना संक्रमण के कारण डूब चुके परिवहन व्यवसाय को उबारने के लिए प्रधानमंत्री से पत्र के माध्यम से गुहार लगाते हुए कहा है कि, वित्तीय संस्थाओं से वार्ता कर प्रदेश में ऋण वाले वाहनों को दो वर्ष की किस्तों में छूट दी जाय।

महासंघ के अध्यक्ष सुधीर राय ने बताया कि कोरोना संक्रमण के चलते परिवहन व्यवसाय को बुरी तरह से नुकसान पहुंचा है। करोड़ों लोग आपने काम धंधों से हाथ धो बैठे हैं। आजीविका के साधन सीमित होने के कारण जीवन यापन करना मुश्किल हो गया है। ऊपर से आए दिन डीजल पेट्रोल व रसोई गैस की कीमतों में भारी वृद्धि हो रही है, जिसने कोढ़ पर खाज का काम किया है। महासंघ ने पेट्रोल व डीजल को जीएसटी के दायरे में लाकर इनका अवमूल्यन करने की मांग की। इसके साथ ही चार धाम यात्रा में संचालित होने वाले समस्त ठेका, स्टेज और व्यवसायिक वाहनों का दो वर्ष का कर वर्ष 2013 की आपदा की तर्ज पर माफ करने की मांग की है।

महासंघ ने कहा कि उत्तराखंड में वाहनों की आयु सीमा भी निर्धारित है। विगत दो वर्षों से वाहनों का संचालन नहीं हो पाया है। ऐसे में पूर्व में पंजीकृत यात्री वाहनों की आयु सीमा दो वर्ष बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने समस्त सरकारी बैंक, निजी बैंक व गैर बैंकिंग वित्तीय संस्थाओं से वार्ता कर उत्तराखंड के वित्त पोषित वाहनों को दो वर्ष की किस्तों में छूट की मांग की है। महासंघ ने केंद्रीय वित्त मंत्री तथा पेट्रोलियम संसाधन मंत्री को भी ज्ञापन की प्रतिलिपि भेजी है।

ज्ञापन सौंपने वालों में ऑटो विक्रम महासंघ के अध्यक्ष महंत विनय सारस्वत, यातायात और पर्यटन समिति के योगेश उनियाल, गढ़वाल मंडल बहुद्देश्यीय संघ के विनोद भट्ट, टैक्सी ट्रैकर कमांडर सुमो एसोसिएशन के अध्यक्ष बलवीर सिंह नेगी, टैक्सी मालिक एवं चालक एसोसिएशन के अध्यक्ष विजयपाल रावत, राजेंद्र लांबा, बालम सिंह महर, जयप्रकाश नारायण, हेमंत डंग, नवीन रमोला, मेघ सिंह चौहान आदि मौजूद रहे।