Tuesday, October 19, 2021
Homeउत्तराखण्डसीएम के इस्तीफे की मांग को कांग्रेस ने किया राजभवन कूच

सीएम के इस्तीफे की मांग को कांग्रेस ने किया राजभवन कूच

-हाथीबड़कला में पुलिस के साथ हुई नोंकझोंक
-प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव के नेतृत्व में किया कूच

देहरादून;  नैनीताल हाई कोर्ट ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश के बाद कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस सीएम त्रिवेंद्र से नैतिकता के आधार पर इस्तीफे की मांग कर रही है। सरकार बर्खास्तगी की मांग को लेकर कांग्रेसी राजभवन के लिए कूच करने के लिये निकले थे लेकिन हाथीबड़कला स्थित बैरिकेडिंग पर उन्हें रोक दिया गया। इस दौरान सभी कांग्रेसी वहीं बैठकर विरोध करने लगे। वहीं इसी बीच खबर है कि नैनीताल हाईकोर्ट के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है।

प्रदर्शन बढ़ता देख मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत इस्तीफे की मांग पर अड़े कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह, कांग्रेस प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव, पूर्व सीएम हरीश रावत समेत तमाम नेताओं को पुलिस ने हाथीबड़कला बैरिकेडिंग से गिरफ्तार कर लिया और वाहनों में भरकर पुलिस लाइन ले जाया गया।इस मामले में बुधवार को कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मुलाकात करने की कोशिश की थी, लेकिन उन्हें राजभवन की तरफ से समय नहीं दिया गया था।

 

सीएम के खिलाफ की सीबीआई जांच की मांग

बता दें, 27 अक्टूबर को उत्तराखंड हाईकोर्ट से सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को बड़ा झटका लगा है। हाईकोर्ट ने उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच सीबीआई को सौंपी है। हाईकोर्ट ने सीबीआई को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ केस दर्ज कर करप्शन के आरोपों की जांच करने का आदेश दिया है।नैनीताल हाईकोर्ट ने यह आदेश पत्रकार उमेश शर्मा के खिलाफ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की छवि बिगाड़ने के मामले में दर्ज थ्प्त् को रद्द करने का आदेश दिया है। उमेश शर्मा के खिलाफ देहरादून के एक थाने में दर्ज एफआईआर को रद्द करने के आदेश देते हुए न्यायमूर्ति रविंद्र मैठाणी की एकल पीठ ने यह भी कहा कि इस मामले के सभी दस्तावेज अदालत में जमा कराए जाएं। हालांकिए अब इस आदेश पर उच्चतम न्यायालय ने रोक लगा दी है।

पूर्व सीएम हरीश रावत समेत कई कांग्रेसियों को पुलिस ने लिया हिरासत में

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत इस्तीफे की मांग पर अड़े कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह, कांग्रेस प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव, पूर्व सीएम हरीश रावत समेत तमाम नेताओं को पुलिस ने हाथीबड़कला बैरिकेडिंग के पास से हिरासत में ले लिया। पुलिस काॅंग्रेस के प्रदर्शनकारियों को को वाहनों में भरकर पुलिस लाइन ले गयी।

बता दें कि नैनीताल हाई कोर्ट ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश के बाद कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है, कांग्रेस सीएम त्रिवेंद्र से नैतिकता के आधार पर इस्तीफे की मांग कर रही है। सरकार बर्खास्तगी की मांग को लेकर कांग्रेसी राजभवन के लिए कूच कर रहे थे।

क्या है मामला

दून निवासी प्रो, हरेंद्र सिंह रावत ने 31 जुलाई 2016 को देहरादून थाने में पत्रकार उमेश शर्मा एवं अन्य के खिलाफ ब्लैकमेलिंग, बदनाम करने समेत विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज करवाया था। जिसमें कहा गया था कि उमेश शर्मा के द्वारा उनके खिलाफ सोशल मीडिया में खबर चलाई थी कि हरेंद्र और उनकी पत्नी सविता के द्वारा नोटबंदी के दौरान झारखंड से अमृतेश चैहान के खाते में पैसे जमा करवाएं और यह पैसे मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को देने की बात कही गई थी। तहरीर में शिकायतकर्ता ने कहा किए उनकी पत्नी मुख्यमंत्री के पत्नी की बहन नहीं हैं। जो भी तथ्य बताए गए हैं, वह पूरी तरह से गलत हैं। उमेश शर्मा के द्वारा उनके बैंक के कागजात गलत तरीके से बनवाए हैं, और उनके द्वारा उनके बैंक खातों की सूचना गैरकानूनी तरीके से प्राप्त की है। मामला सामने आने के बाद इस पूरे प्रकरण में राज्य सरकार द्वारा उमेश शर्मा समेत अन्य लोगों के खिलाफ देशद्रोह, गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज कराया गया था।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments