महाकुंभ के अंतिम शाही स्नान में प्रतीकात्मक रूप से नहाएंगे अखाड़े

0
88

हरिद्वार:  धर्मनगरी हरिद्वार महाकुंभ के आखिरी शाही स्नान चैत्र पूर्णिमा पर इस बार आम श्रद्धालु साढ़े नौ बजे तक हरकी पैड़ी पर स्नान कर सकेंगे। इसके बाद पूरा हरकी पैड़ी क्षेत्र संतों के शाही स्नान के लिए रिजर्व होगा। सबसे पहले निरंजनी अखाड़े के संत शाही स्नान करेंगे।

इस दौरान हाईवे को भी खुला रखा जाएगा। हालांकि, जब जुलूस हाईवे पर पहुंचेगा तो कुछ देर के लिए यातायात को डायवर्ट किया जाएगा।

कुंभ मेला आईजी संजय गुंज्याल ने बताया कि इस बार पेशवाई में संतों की संख्या कम होगी और वाहनों का भी कम से कम प्रयोग किया जाएगा।

बैरागी और संन्यासी अखाड़ों के संतों ने मेला पुलिस-प्रशासन को आश्वासन दिया है कि सीमित संख्या में संत स्नान करेंगे और कोविड की गाइडलाइन का पालन करेंगे।

हरिद्वार महाकुंभ के आखिरी शाही स्नान को लेकर आईजी कुंभ संजय गुंज्याल ने बताया कि संन्यासी अखाड़ों के पदाधिकारियों से बातचीत हुई है। संन्यासी अखाड़ों के पदाधिकारियों से कोरोना की नई लहर के बढ़ते हुए प्रकोप को ध्यान में रखते हुए चैत्र पूर्णिमा के शाही स्नान को प्रतीकात्मक रूप से शारीरिक दूरी के साथ छोटा करने की अपील की गई।

आईजी ने बताया कि शाही स्नान के दौरान ज्यादा से ज्यादा 100 साधु-संत ही स्नान करेंगे. इस बार 2 जोन में कुंभ क्षेत्र को बांटा गया है।