spot_img
spot_img
Homeउत्तराखण्डकोर्ट ने एसडीएम समेत सात लोगों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा...

कोर्ट ने एसडीएम समेत सात लोगों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज करने के दिए आदेश

-

रुद्रपुर: एक विवाहिता की शिकायत पर सिविल जज जूनियर डिवीजन की कोर्ट ने यूपी में तैनात एसडीएम सहित सात लोगों पर दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने यूपी के उत्तरौला जिला बलरामपुर में तैनात एसडीएम अरुण कुमार गौड़ और अन्य पर केस दर्ज कर लिया है। अरुण पर दहेज में तीस लाख रुपये मांगने, अभद्रता और पत्नी को जिंदा जलाने की कोशिश का आरोप भी है।

कोतवाली में दर्ज मुकदमे में विवाहिता रिंकी पुत्री मायाशंकर निवासी ग्राम कीतरपुर रुद्रपुर ने कहा है कि उसका विवाह ग्राम मूडाडीह थाना देवरिया यूपी निवासी अरुण कुमार गौड़ के साथ 15 दिसंबर 2018 को हुआ था। अरुण वर्तमान में उत्तरौला जिला बलरामपुर में एसडीएम पद पर तैनात हैं। पति की मांग पर पिता ने दान में 30 लाख रुपये, जेवरात, कार और अन्य सामान दिया। आरोप है कि शादी के बाद दंपती गोवा गए तो पति ने मारपीट कर दोबारा 30 लाख रुपये की मांग कर दी।

आरोप है कि ससुर रामचंद्र, जेठ दिलीप कुमार, अजय कुमार, जेठानी मंजू देवी, रंजीता देवी, ननद शशी प्रभा ने भी मारपीट कर दहेज की मांग की।

सात अप्रैल 2020 को पति ने उसे और परिवारवालों को झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी देते हुए रसोइए के साथ आपत्तिजनक हरकतें करने का दबाव बनाया। पूरे मामले के फोटो भी खींच लिए और घर से निकाल दिया। पति और ससुरालियों ने उसे रस्सी से बांधकर जलाने की कोशिश भी की थी।

बताया कि पति के साथ तैनात स्टाफ ने रिंकी की जान बचाई। नौ अप्रैल को पति अपने चालक, दो सिपाहियों, चपरासी के साथ रिंकी को पिता के घर लेकर आया और जबरन तलाकनामे पर दस्तखत कराने की कोशिश की थी। आरोप है कि पति ने लाइसेंसी रिवाल्वर निकालकर धमकाने के साथ जबरन गाड़ी में खींचकर ले जाने की कोशिश की थी।

शोर सुनकर भाई और भाभी ने वहां पहुंचकर उसे बचाया था। पति पद का दुरुपयोग कर उसका दहेज के लिए उत्पीड़न करता है और क्रूरतापूर्वक व्यवहार करता है। पिछले साल भी उसके साथ मारपीट की गई थी।

इसके बाद 19 नवंबर 2019 को उसने बलरामपुर के जिला अस्पताल में मेडिकल कराया था। रिंकी का कहना है कि जानमाल का खतरा बना हुआ है।

कोतवाल एनएन पंत ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर सात आरोपियों पर धारा 498 ए, 323, 504, 506 और दहेज प्रतिषेध अधिनियम 1961 की धारा तीन और चार के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जांच बाजार चैकी इंचार्ज प्रदीप पंत को सौंपी गई है।

LATEST POSTS

राज्य की पुलिस को बनाया जायेगा स्मार्ट पुलिस सरकार इस ओर अग्रसर: मुख्यमंत्री धामी

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को रेस कोर्स स्थित पुलिस लाईन में आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग करते हुए प्रशासनिक भवन, क्वार्टर गार्द एवं...

रक्षक प्लस योजना के अन्तर्गत पीएनबी ने सौंपा मृतक पुलिस कर्मी की पत्नी को 50 लाख रूपये का चैक, डीजीपी रहे मौजूद

देहरादून: पंजाब नेशनल बैंक देहरादून जोन द्वारा रक्षक प्लस योजना के अन्तर्गत सड़क दुर्घटना में जान गंवाने वाले पुलिस कर्मी ओ.पी. विजय चौहान...

राज्य में जल्द होगी ई-एफआईआर की सुविधा, घर बैठे दर्ज करा सकेंगे रिपोर्ट

देहरादून: राज्य में जल्द ही ई-एफआईआर की सुविधा लागू की जायेगी। इसमें आम जन ई-एफआईआर पोर्टल के जरिये फस्ट इन्फोर्मेशन रिपोर्ट दर्ज करा सकेंगेI...

डीजीपी अशोक कुमार की अध्यक्षता में संपन्न हुई, अन्तर्राज्यीय व अन्तरइकाई समन्वय की 17 वीं बैठक, कांवड़ यात्रा को लेकर हुआ विमर्श

देहरादून: सूबे के पुलिस महानिदेशक, अशोक कुमार की अध्यक्षता में अन्तर्राज्यीय व अन्तरइकाई समन्वय की 17 वीं बैठक सोमवार को पुलिस मुख्यालय स्थित सभागार...

Follow us

1,200FansLike
1,033FollowersFollow
340SubscribersSubscribe