Homeअंतर राष्ट्रीयश्रीलंका में चल रहे वित्तीय संकट को देखकर पूर्व कप्तान ने किया...

श्रीलंका में चल रहे वित्तीय संकट को देखकर पूर्व कप्तान ने किया प्रदर्शनकारियों का समर्थन

-

देहरादून: श्रीलंका को भारी वित्तीय संकट और अशांति से जूझते हुए देखकर पूर्व कप्तान सनथ जयसूर्या सरकार के खिलाफ हो रहे आंदोलन में प्रदर्शनकारियों का समर्थन किया है। जयसूर्या का मानना है कि देश को नेताओं ने बर्बाद कर दिया है। उन्होंने देश में लोकतंत्र के जल्द ही बहाल हो जाने की उम्मीद जताई है। साथ ही पूर्व कप्तान को उम्मीद है कि अगले महीने उनका देश एशिया कप का आयोजन कर सकता है।

जयसूर्या ने समाचार एजेंसी को दिए इंटरव्यू में कहा कि यह एक बहुत ही दुखद स्थिति है कि श्रीलंकाई जनता को क्या करना पड़ रहा है। मेरा देश पीड़ित है और मुझे आवश्यक खाद्य पदार्थों को खरीदने के लिए लंबी कतारों में खड़े लोगों को देखकर दुख हो रहा है। बिजली नहीं है, ईंधन नहीं है और इसके ऊपर सभी बुनियादी दवाएं उपलब्ध नहीं हैं। आम आदमी के लिए इससे बदतर कुछ नहीं हो सकता था।

जयसूर्या ने गुस्से में कहा कि यह स्थिति वास्तव में दुर्भाग्यपूर्ण है। उम्मीद है कि आज 13 जुलाई को गोतबाया अपना इस्तीफा दे देंगे। मेरे पास यह बताने के लिए कोई शब्द नहीं हैं कि हमारे राजनेताओं ने देश को पूरी तरह गलत तरीके से चलाया है।

जयसूर्या ने आगे कहा कि यदि आप मुझसे जनता के बारे में पूछें, जो वर्तमान में राष्ट्रपति भवन के अंदर हैं, तो मुझे कुछ भी गलत नहीं लगता क्योंकि वे अपने विरोध प्रदर्शन में शांतिपूर्ण रहे हैं। उन्हें बार-बार सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान नहीं पहुंचाने के लिए कहा गया है। हां, बहुत सारे लोग श्रीलंका के विभिन्न हिस्सों से आए हैं। वे सभी राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग को लेकर नौ जुलाई को कोलंबो पहुंचे।

उन्होंने कहा कि सभी को राष्ट्रपति भवन के सामानों की देखभाल करने के लिए कहा गया था क्योंकि कुछ चीजें बहुत मूल्यवान हैं। इमारत के अंदर कुछ भी अप्रिय नहीं हुआ है।” आमलोगों की तरह जयसूर्या को भी उम्मीद है कि बहुत जल्द लोकतंत्र वापस आएगा और लंबे समय में चीजें धीरे-धीरे सामान्य हो जाएंगी।

पूर्व कप्तान से जब पूछे गया कि क्या वह कार्यवाहक राष्ट्रपति के रूप में प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे की पदोन्नति का समर्थन करते हैं, तो उन्होंने कहा कि रानिल के पास कोई विकल्प नहीं है, लेकिन उन्हें स्पीकर महिंदा यापा अभयवर्धने के आदेशों का पालन करना होगा और उसी के अनुसार करना होगा। देश में शांति और लोकतंत्र को वापस बहाल करने के लिए रानिल को अन्य लोगों के साथ साजिथ प्रेमदासा से बात करने की आवश्यकता होगी। उन्हें देश के मुस्लिम नेताओं, तमिल नेताओं से चर्चा करने की जरूरत है। हमें अपने देश में लोकतंत्र बहाल करने की जरूरत है।”

प्रदर्शनकारियों ने मैच में खलल नहीं डाला। इससे जयसूर्या को अगस्त में शुरू होने वाले एशिया कप टी20 की मेजबानी करने में सक्षम होने का भरोसा मिला। उन्होंने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि एशिया कप होगा और टूर्नामेंट के लिए कोई खतरा नहीं है। श्रीलंका में हर कोई क्रिकेट और हर देश के क्रिकेटरों से प्यार करता है। श्रीलंकाई जनता के पास किसी भी क्रिकेटर के खिलाफ कुछ भी नहीं है। टूर्नामेंट को शांतिपूर्ण ढंग से आयोजित करने में सभी समर्थन देंगे।

LATEST POSTS

महिलाओं को रोजगार एवं स्वरोजगार से जोड़ने के लिए प्रभावी प्रयासों की जरूरत

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने महिला श्रमिक सुरक्षा एवं सशक्तीकरण की बैठक लीI इस दौरान सीएम ने राज्य में महिलाओं की सुरक्षा...

पत्नी ने पकड़ा धोखेबाज पति को रंगे हाथ, प्रेमिका को छोड़ हुआ फरार

देहरादून: मुरादाबाद में पति के अफेयर का पता चलने पर घुस्साई पत्नी ने पुलिस को बुलाकर जमकर हंगामा किया I महिला ने पति और उसकी...

शशि थरूर ने जारी किया चुनावी घोषणा पत्र, कहा कांग्रेस में सुधार की जरूरत

देहरादून: कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ रहे शशि थरूर ने चुनावी घोषणा पत्र जारी कर दिया है। इस पत्र में उन्होंने पार्टी के प्रदेश...

एनसीबी ने 120 करोड़ की एमडी ड्रग को किया जब्त, पूर्व पायलट समेत 6 लोग गिरफ्तार

देहरादून: मुंबई नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने गुजरात के जामनगर व मुंबई के एक गोदाम से 120 करोड़ रुपये मूल्य की 60 किलो मादक दवा मेफेड्रोन...

Follow us

1,200FansLike
1,033FollowersFollow
340SubscribersSubscribe