Homeउत्तराखण्डराज्य में प्राचीन कुम्हारी हस्तकला को दिया जाय बढ़ावा:सीएम धामी

राज्य में प्राचीन कुम्हारी हस्तकला को दिया जाय बढ़ावा:सीएम धामी

-

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को सचिवालय में ‘‘कुम्हारी कला ‘‘ को पुनर्जीवित करने को लेकर बैठक कीI इस दौरान सीएम ने कुम्हारों के लिए मिट्टी की उपलब्धता के लिए भूमि चिन्हित करने समेत निशुल्क मिट्टी उपलब्ध कराने की बात कहीI उन्होंने बैठक के दौरान कुम्हारी हस्तकला से बने मिट्टी के गिलासों में चाय भी पी, साथ ही सीएम आवास व सचिवालय में मिट्टी के बने गिलासों में चाय देने की शुरुआत करने की बात कहीI

सीएम ने बैठक के दौरान कहा कि प्रदेश में कुम्हारी कला को अधिक से अधिक बढ़ावा दिया जाए। कहा कि कुम्हारी कला समृद्ध एवं प्राचीन हस्तकला है। उतराखण्ड में अनेक परिवार इस कला से जुड़े हैं। भारत सरकार की ‘‘कुम्हार सशक्तिकरण योजना” का उद्देश्य कुम्हारी कला को पुनर्जीवित करना एवं समाज के सबसे कमजोर वर्गों में से एक कुम्हार समुदाय को सामाजिक एवं आर्थिक रूप से सशक्त कर विकास की मुख्यधारा में वापस लाना है।

मुख्यमंत्री ने इस बाबत अधिकारियों को निर्देश दिये कि कुम्हारों को उन्नत किस्म के मिट्टी के उपकरण बनाने के लिए पर्याप्त मात्रा में मिट्टी उपलब्ध हो, इसके लिए ऐसी मिट्टी वाली भूमि का चिन्हीकरण किया जाए। चिन्हित भूमि से कुम्हारों को आवश्यकतानुसार एवं मानकों के हिसाब से निःशुल्क मिट्टी उपलब्ध कराने की व्यवस्था भी की जाए। उन्होंने कहा कि कुम्हार हस्तकला को राज्य में बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री आवास एवं सचिवालय में मिट्टी से बने गिलासों में चाय देने की शुरूआत की जाए। इसे व्यापक स्तर पर प्रदेश भर में बढ़ावा दिया जाए। इस मौके पर मुख्यमंत्री एवं अधिकारियों ने सचिवालय में मिट्टी के गिलासों में चाय पीकर इसकी शुरूआत की। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि तीन माह में कुम्हारी कला की अगली बैठक आयोजित की जायेगी, कुम्हारी कला को बढ़ावा देने के लिए राज्य में क्या प्रयास किये गये, इसकी समीक्षा की जाएगी।

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कहा कि कुम्हारी हस्तकला को बढ़ावा देने के लिए एक पोर्टल बनाया जाए। इस विद्या से जुड़े लोगों के सुझावों को ध्यान में रखते हुए, उन्हें हर सम्भव मदद दी जाए। देश के विभिन्न क्षेत्रों में हुनर हाटों में हस्तकला से जुड़े लोगों को भेजा जाए। कुम्हारी कला को राज्य में बढ़ावा देने के लिए इस क्षेत्र से जुड़े लोगों के उचित प्रशिक्षण की व्यवस्था भी हो। उन्होंने कहा कि कुम्हार हस्तकला इकोलॉजी के लिए भी अच्छा है। कुम्हार हस्तकला को सीएम स्वरोजगार योजना में भी जोड़ा जाए। कहा कि स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देना जरूरी है, दीपावली के पर्व पर कुम्हारों द्वारा निर्मित दिये एवं अन्य उत्पादों की खरीद के लिए लोगों को प्रेरित भी किया जाए।

बैठक में अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, सचिव बीवीआरसी पुरूषोत्तम, डॉ. पंकज कुमार पाण्डेय, महानिदेशक उद्योग रणवीर सिंह चौहान, अपर सचिव आनन्द श्रीवास्तव, निदेशक उद्योग सुधीर चन्द्र नौटियाल, माटी कला बोर्ड के उपाध्यक्ष शोभाराम प्रजापति उपस्थित थे।

LATEST POSTS

जम्मू-कश्मीर में आठ घंटे में हुए दो विस्फोट

देहरादून: जम्मू-कश्मीर के उधमपुर शहर में एक बस स्टैंड पर खड़े एक वाहन में गुरुवार सुबह एक विस्फोट हुआ। हादसे में किसी के हताहत होने...

4-P मॉडल का सबसे बड़ा उदाहरण हैं सूरत: पीएम मोदी

देहरादून: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दो दिवसीय दौरे पर गुजरात के सूरत पहुंच गए हैं। यहां पहुंचने के बाद उन्होंने एक रोड शो में भाग...

सुप्रीम कोर्ट ने विवाहित व अविवाहित महिलाओं को दिया गर्भपात का अधिकार

देहरादून: सुप्रीम कोर्ट ने आज गुरुवार को देश की सभी महिलाओं को गर्भपात का अधिकार दिया हैं। यह अधिकार शीर्ष कोर्ट ने मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट...

ग्रामीण डाक सेवकों ने विभिन्न मांगों को लेकर जीपीओ में किया धरना प्रदर्शन

देहरादून: ग्रामीण डाक सेवकों ने विभिन्न मांगों को लेकर जीपीओ में एक दिवसीय धरना दिया। डाक सेवकों ने मांगो का निराकरण नहीं होने पर राष्ट्रीय...

Follow us

1,200FansLike
1,033FollowersFollow
340SubscribersSubscribe