स्पेशल ऑपरेशन की कमान संभालेंगे उत्तराखंड के लाल. बीएसएफ में इंस्पेक्टर जनरल, सतीश चंद्र बुडाकोटी

0
23
सतीश चंद्र बुडाकोटी

-उत्तराखंडी की कमान मे स्पेशल ऑपरेशन

देहरादून: बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स में तैनात अधिकारी उत्तराखंड के लाल, सतीश चंद्र बुडाकोटी को इंस्पेक्टर जनरल के पद पर प्रमोशन के साथ फ्रंटियर मुख्यालय (स्पेशल ऑपरेशन) ओडिशा में

 

               

नियुक्ति मिली है। इस फ्रंटियर मुख्यालय में वो एंटी नक्सल ऑपरेशन की कमान संभालेंगे।

बीएसएफ में अधिकारी के रुप मे अपने 35 वर्षों के लंबे और बेदाग करियर के दौरान एस सी बुडाकोटी को महानिरीक्षक के पद पर जम्मू और कष्मीर, पंजाब और उत्तर पूर्व राज्यों मे आतंकवाद से लड़ने का व्यापक अनुभव है। वह सुरक्षा और संचालन संबंधी मुद्दों के हर पहलू में पूर्ण विषेशज्ञ हैं। जिसके तहत नक्सल क्षेत्र में नक्सली ऑपरेशन का नेतृत्व करने के लिए उनका चयन किया गया।

उतराखण्ड जनपद पौड़ी गढ़वाल, कौडिया पट्टी, लैंसडाउन, जहरीखाल ब्लॉक चाई गांव में जन्में सतीश बुडाकोटी ने सेंट एडमंड्स कॉलेज, शिलांग से स्नातक किया। वर्ष 1986 में उनका सीधे सहायक कमाण्डेंट के रुप में सीमा सुरक्षा बल में चयन हुआ। सतीश के पिता स्वर्गीय योगेश्वर प्रसाद भी आर्मी मे कर्नल थे।

सेवा के दौरान वह पंजाब, जम्मु. कश्मीर और नार्थ इस्ट के उग्रवाद से ग्रसित राज्यों में अत्यंत कठिन और प्रतिकूल इलाको में बतौर उत्कृष्ट अधिकारी के रुप में तैनात रहे। बुड़ाकोटी ने अंतरराष्ट्रीय सीमा के साथ.साथ जम्मु.कश्मीर में नियंत्रण रेखा में वाहिनी की कमान संभाली। उन्होंने नियंत्रण रेखा पर कश्मीर में एक सेक्टर की भी कमान संभाली है। वहीं उन्होंने फील्ड क्षेत्र के साथ.साथ दिल्ली में महत्वपूर्ण स्टाफ नियुक्तियों में भी कार्य किया है।

सतीश को विषेश रुप से बोस्निया और हर्जेगोविना में संयुक्त राष्ट्र मिशन के साथ प्रतिनियुक्ति के लिए भी चुना गया, जहां उन्होेंने सीमा पूलिस प्रमुख और ऑपरेशन अधिकारी के सलाहकार के रुप में कर्तत्यों का पालन किया।

उन्हें कुलीन कमांडो फोर्स राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के में भी कार्य करने का अनुभव प्राप्त है, जहां वह बतौर ग्रुप कमांडर तैनात रहे।

उन्हें वर्ष 2009 मे सहरनीय सेवा के लिए प्रतिष्ठित राष्ट्रपति के द्वारा पुलिस पदक से भी सम्मानित किया जाचुका है।