बदलते मौसम में शीतल पेय का इस्तेमाल नुकसान दायक

0
70

-शीतल पेय,बासी भोजन, खुले में बिकने वाले खाद्य पदारर्थों से परहेज करें: डॉ. बिष्ट 

हल्द्वानी:  मौसम बदलने के साथ ही अस्पतालों में उल्टी-दस्त, सर्दी-जुकाम, खांसी और बुखार के मरीजों की संख्या में इजाफा होने लगा है। बदलते मौसम में शीतल पेय पदार्थ लोगों की सेहत खराब कर सकते हैं। ऐसे में कोरोना काल के मद्देनजर और बदलते मौसम को देखते हुए लोगों को शीतल पेय पदार्थ पीने से परहेज करने की जरूरत है।

डॉक्टरों की मानें तो कोरोना संक्रमण के बीच शीतल पेय पदार्थ पीने के अलावा खुले हुए खाद्य पदार्थ खाना, बासी खाना सेहत के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है।

बढ़ते तापमान के साथ लोग गर्मी से बचने के लिए शीतल पेय पदार्थ, कोल्ड ड्रिंक, लस्सी, शिकंजी, बर्फ के जूस, गन्ने का ठंडा जूस पीकर अपनी गर्मी को भगाने का काम कर रहे हैं।

लेकिन यही शीतल पेय पदार्थ आपकी सेहत को खराब कर सकते हैं। ऐसे में कोरोना संक्रमण के बीच शीतल पेय पदार्थ लोगों की सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं।

हल्द्वानी बेस अस्पताल के चिकित्सक डॉ. एसएस बिष्ट के मुताबिक बेस अस्पताल में इन दिनों सर्दी, जुकाम और बुखार के अलावा उल्टी दस्त के मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है।

ऐसे में बदलते मौसम में अब लोगों को अपनी सेहत को ध्यान में रखते हुए शीतल पेय पदार्थ के अलावा बासी भोजन और खुले में बिकने वाले खाद्य पदार्थ को खाने से परहेज करने की जरूरत है। जिससे कि बीमारी से बचा जा सके।

डॉ एसएस बिष्ट के मुताबिक सर्दी, जुकाम और बुखार कोविड के लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में अगर मरीज के अंदर इस तरह का कोई लक्षण हो तो टेस्ट जरूर करवाएं. साथ ही मौसम को ध्यान में रखते हुए ठंडे पेय पदार्थ पीने वालों को सावधानी बरतने की जरूरत है।