उत्तराखंड: धूल भरी आंधी ने किया लोगों को परेशान, झमाझम बारिश ने गर्मी और उमस से दी राहत

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून
Updated Wed, 27 May 2020 10:40 PM IST

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

उत्तराखंड में बुधवार देर शाम को मौसम ने फिर करवट बदली। राजधानी देहरादून समेत प्रदेश के कई इलकों में झमाझम बारिश हुई। इससे लोगों को गर्मी और उमस से भी लोगों को राहत मिली। वहीं, चले तेज आंधी-तूफान की वजह कई जगह बिजली के तारों पर पेड़ और उनकी टहनियां गिर गई। जिससे बिजली गुल हो गई। बाद में बिजली कर्मचारियों ने तारों से पेड़ों को हटाकर आपूर्ति सुचारू की। जबकि कई जगह देर रात तक भी बिजली आपूर्ति सुचारू नहीं हो सकी थी।बुधवार देर शाम को तेज आंधी चली। जिससे डीआईटी के सामने 33 केवी के लाइन पर पेड़ की बड़ी टहनी गिर गई। जिससे पोल टूट गया और तारें जमीन पर आई गई। जिससे आसपास के क्षेत्र में बिजली की बत्ती गुल हो गई। इसी प्रकार दून विहार, बिष्ट गांव, जाखन,चकराता रोड, सहित ग्रामीण इलाकों में भी बिजली तारों पर पेड़ और टहनियां गिरने से बिजली गुल रही। सूचना पर मौके पर पहुंचे बिजली कर्मचारियों ने तारों से टहनियां हटाकर और पोलों को सीधा कर आपूर्ति सुचारू की।
वहीं तेज आंधी के कारण शहरी क्षेत्रों में विभाग को एहतियातन बिजली बंद करनी पड़ी। विभाग की माने तो आंधी थमने के बाद सभी जगह आपूर्ति सुचारु कर ली गई थी। जबकि जहां लाइनों पर बड़े पेड़ गिरे हैं, वहां दूसरी लाइन से आपूर्ति सुचारु की गई।प्रदेश के ज्यादातर क्षेत्रों में अगले 24 घंटों के दौरान अधिकतम और न्यूनतम तापमान कम होने के आसार हैं, जिससे लोगों को तेज गर्मी और उमस से कुछ राहत मिल सकती है। मौसम केंद्र की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार मैदानी क्षेत्रों में तापमान 40 से 42 डिग्री तक पहुंच सकता है। वहीं, पहाड़ी क्षेत्रों का तापमान 28 से 30 डिग्री तक पहुंचने का अनुमान है।

उत्तराखंड में बुधवार देर शाम को मौसम ने फिर करवट बदली। राजधानी देहरादून समेत प्रदेश के कई इलकों में झमाझम बारिश हुई। इससे लोगों को गर्मी और उमस से भी लोगों को राहत मिली। वहीं, चले तेज आंधी-तूफान की वजह कई जगह बिजली के तारों पर पेड़ और उनकी टहनियां गिर गई। जिससे बिजली गुल हो गई। बाद में बिजली कर्मचारियों ने तारों से पेड़ों को हटाकर आपूर्ति सुचारू की। जबकि कई जगह देर रात तक भी बिजली आपूर्ति सुचारू नहीं हो सकी थी।

बुधवार देर शाम को तेज आंधी चली। जिससे डीआईटी के सामने 33 केवी के लाइन पर पेड़ की बड़ी टहनी गिर गई। जिससे पोल टूट गया और तारें जमीन पर आई गई। जिससे आसपास के क्षेत्र में बिजली की बत्ती गुल हो गई। इसी प्रकार दून विहार, बिष्ट गांव, जाखन,चकराता रोड, सहित ग्रामीण इलाकों में भी बिजली तारों पर पेड़ और टहनियां गिरने से बिजली गुल रही। सूचना पर मौके पर पहुंचे बिजली कर्मचारियों ने तारों से टहनियां हटाकर और पोलों को सीधा कर आपूर्ति सुचारू की।

24 घंटे बाद कम होगा न्यूनतम तापमान

वहीं तेज आंधी के कारण शहरी क्षेत्रों में विभाग को एहतियातन बिजली बंद करनी पड़ी। विभाग की माने तो आंधी थमने के बाद सभी जगह आपूर्ति सुचारु कर ली गई थी। जबकि जहां लाइनों पर बड़े पेड़ गिरे हैं, वहां दूसरी लाइन से आपूर्ति सुचारु की गई।प्रदेश के ज्यादातर क्षेत्रों में अगले 24 घंटों के दौरान अधिकतम और न्यूनतम तापमान कम होने के आसार हैं, जिससे लोगों को तेज गर्मी और उमस से कुछ राहत मिल सकती है। मौसम केंद्र की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार मैदानी क्षेत्रों में तापमान 40 से 42 डिग्री तक पहुंच सकता है। वहीं, पहाड़ी क्षेत्रों का तापमान 28 से 30 डिग्री तक पहुंचने का अनुमान है।

आगे पढ़ें

24 घंटे बाद कम होगा न्यूनतम तापमान

Source link

सोशल ग्रुप्स में समाचार प्राप्त करने के लिए निम्न समूहों को ज्वाइन करे.