ऊधमसिंह नगर : रेंजर ने पकड़े तस्कर, रेंज कार्यालय से छुड़ा ले गया वन दरोगा

न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, गूलरभोज (ऊधमसिंह नगर)
Updated Wed, 27 May 2020 09:42 AM IST

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

जंगलों को बचाने की जिम्मेदारी संभालने वाले ही तस्करों को शह दे रहे हैं। पीपलपड़ाव रेंज में रेंजर की ओर से पकड़े गए दो लकड़ी तस्करों को एक विवादित वन दरोगा दबंगई दिखाते हुए रेंज कार्यालय से छुड़ाकर ले गया। इससे डिविजन में हड़कंप मचा हुआ है। पूरे मामले पर पर्दा डालने की कोशिश हो रही है। इतना ही नहीं, घटना के पांच दिन बीतने के बाद भी आरोपी वन दरोगा पर विभाग कार्रवाई नहीं कर सका है।जानकारी के अनुसार पीपलपड़ाव रेंज के रेंजर भूपेंद्र कुमार मेहरा ने बीते शुक्रवार को गश्त के दौरान गगदिया चौराहे से साइकिल पर लकड़ी की तस्करी कर ले जा रहे दो लोगों को गिरफ्तार किया था। केलाखेड़ा क्षेत्र के रहने वाले दोनों तस्करों को रेंज कार्यालय में रखा गया था। किसी अन्य मामले की जांच में जाने के कारण रेंजर ने आरोपियों को ऑफिस के एक कर्मचारी की सुपुर्दगी में दिया था। रेंजर के जाने के बाद विभाग में तैनात एक विवादित वन दरोगा कार्यालय पहुंच गया।
आरोप है कि कार्यालय में मौजूद कर्मचारी पर दबंगई दिखाते हुए उक्त वन दरोगा आरोपियों को छुड़ाकर ले गया। रेंजर की ओर से इसकी सूचना तत्काल पुलिस और उच्चाधिकारियों को दी गई। तस्करों को छुड़ाकर ले जाने वाले वनकर्मी का विवादों से पुराना नाता रहा है। पिछले माह कोविड-19 में लगी ड्यूटी से भी नदारद रहने के साथ ही नशे में कार चलाने के मामले में उस पर केस दर्ज हो चुका है। इससे पहले भी मारपीट के कुछ मामलों में उसका नाम आ चुका है।रेंजर ने मामले में गदरपुर थाने में शिकायत की तो पुलिस ने विभागीय मामला बताकर पल्ला झाड़ लिया। इधर, वन क्षेत्राधिकारी भूपेंद्र कुमार मेहरा ने बताया कि मामले में संबंधित वन दरोगा के खिलाफ कार्रवाई के लिए लिखित शिकायत एसडीओ यूसी तिवारी और उच्चाधिकारियों को दी गई है। उच्चाधिकारियों के स्तर पर ही कार्रवाई होनी है।वन दरोगा के खिलाफ लगातार शिकायतें मिल रहीं हैं। वन क्षेत्राधिकारी की ओर से लिखित में इस घटना की जानकारी दी गई है। जल्द ही वन दरोगा के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी।- यूसी तिवारी, एसडीओ, तराई केंद्रीय वन प्रभाग

सार
शुक्रवार को गगदिया चौराहे से लकड़ी की तस्करी करते पकड़े गए थे दो लोग
पहले भी अपने कारनामों से विवादित रहा है आरोपी वनकर्मी

विस्तार
जंगलों को बचाने की जिम्मेदारी संभालने वाले ही तस्करों को शह दे रहे हैं। पीपलपड़ाव रेंज में रेंजर की ओर से पकड़े गए दो लकड़ी तस्करों को एक विवादित वन दरोगा दबंगई दिखाते हुए रेंज कार्यालय से छुड़ाकर ले गया। इससे डिविजन में हड़कंप मचा हुआ है। पूरे मामले पर पर्दा डालने की कोशिश हो रही है। इतना ही नहीं, घटना के पांच दिन बीतने के बाद भी आरोपी वन दरोगा पर विभाग कार्रवाई नहीं कर सका है।

जानकारी के अनुसार पीपलपड़ाव रेंज के रेंजर भूपेंद्र कुमार मेहरा ने बीते शुक्रवार को गश्त के दौरान गगदिया चौराहे से साइकिल पर लकड़ी की तस्करी कर ले जा रहे दो लोगों को गिरफ्तार किया था। केलाखेड़ा क्षेत्र के रहने वाले दोनों तस्करों को रेंज कार्यालय में रखा गया था। किसी अन्य मामले की जांच में जाने के कारण रेंजर ने आरोपियों को ऑफिस के एक कर्मचारी की सुपुर्दगी में दिया था। रेंजर के जाने के बाद विभाग में तैनात एक विवादित वन दरोगा कार्यालय पहुंच गया।

विवादों से पुराना नाता

आरोप है कि कार्यालय में मौजूद कर्मचारी पर दबंगई दिखाते हुए उक्त वन दरोगा आरोपियों को छुड़ाकर ले गया। रेंजर की ओर से इसकी सूचना तत्काल पुलिस और उच्चाधिकारियों को दी गई। तस्करों को छुड़ाकर ले जाने वाले वनकर्मी का विवादों से पुराना नाता रहा है। पिछले माह कोविड-19 में लगी ड्यूटी से भी नदारद रहने के साथ ही नशे में कार चलाने के मामले में उस पर केस दर्ज हो चुका है। इससे पहले भी मारपीट के कुछ मामलों में उसका नाम आ चुका है।रेंजर ने मामले में गदरपुर थाने में शिकायत की तो पुलिस ने विभागीय मामला बताकर पल्ला झाड़ लिया। इधर, वन क्षेत्राधिकारी भूपेंद्र कुमार मेहरा ने बताया कि मामले में संबंधित वन दरोगा के खिलाफ कार्रवाई के लिए लिखित शिकायत एसडीओ यूसी तिवारी और उच्चाधिकारियों को दी गई है। उच्चाधिकारियों के स्तर पर ही कार्रवाई होनी है।वन दरोगा के खिलाफ लगातार शिकायतें मिल रहीं हैं। वन क्षेत्राधिकारी की ओर से लिखित में इस घटना की जानकारी दी गई है। जल्द ही वन दरोगा के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी।- यूसी तिवारी, एसडीओ, तराई केंद्रीय वन प्रभाग

आगे पढ़ें

विवादों से पुराना नाता

Source link

सोशल ग्रुप्स में समाचार प्राप्त करने के लिए निम्न समूहों को ज्वाइन करे.