कोरोना काल में विटामिन सी युक्त टमाटर करेगा कमाल 

0
47

देहरादून। कोरोना काल में विटामिट सी का प्रयोग काफी लाभदायक है। ऐसे में विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (वीपीकेएएस) अल्मोड़ा के वैज्ञानिकों ने टमाटर की एक नई प्रजाति विकसित की है, जिसमें सामान्य टमाटर की अपेक्षा विटामिन सी की मात्रा दोगुने से भी अधिक है। चेरी टमाटर-1 नाम की यह प्रजाति खास तौर पर सलाद के लिए अधिक बेहतर मानी जा रही है। इसके पेड़ की बेलें सामान्य टमाटर की अपेक्षा काफी बड़ी और फैली होती हैं, जिसकी पैदावार 350 से 375 कुंतल प्रति हेक्टेयर है। विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक देश के पर्वतीय राज्यों के लिए समय-समय पर मक्का, धान, गेहूं सहित सब्जियों आदि के बीजों की उन्नत प्रजातियां विकसित करते रहते हैं। अब संस्थान के वैज्ञानिकों ने लंबे परीक्षण के बाद वीएल चैरी टमाटर-1 नाम से टमाटर की नई प्रजाति विकसित की है। इसका खेतों में परीक्षण किया जा चुका है।संस्थान के निदेशक डॉ. लक्ष्मीकांत ने बताया कि वीएल चैरी टमाटर-1 में विटामिन सी की मात्रा प्रति 100 ग्राम में 86 मिग्रा. है, जबकि सामान्य टमाटर में यह मात्रा 32 मिलीग्राम होती है। सामान्य टमाटर की अपेक्षा इस टमाटर की पैदावार भी करीब डेढ़ से दो गुना अधिक होती है।
डॉ. लक्ष्मीकांत ने बताया कि वीएल चैरी टमाटर-1 प्रजाति को खास तौर पर उत्तराखंड, जम्मू कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश, असम, अंडमान निकोबार और मध्यप्रदेश राज्यों के लिए विकसित किया गया है। इन राज्यों में बीज का परीक्षण भी किया जा चुका है। जल्द ही कुछ कंपनियों को इसके बीज की बिक्री के लिए भी अधिकृत किया जाएगा।

सोशल ग्रुप्स में समाचार प्राप्त करने के लिए निम्न समूहों को ज्वाइन करे.